Ads (728x90)



किसी भी देश में दैनिक जीवन में ख़रीद और बिक्री प्रयोग किये जाने वाले सिक्के और काग़ज़ के नोट दोनों को उस देश की मुद्रा कहते हैं आमतौर से किसी देश की मुद्रा उस देश की सरकारी व्यवस्था द्वारा बनाई जाती है और यह मुद्रा कई प्रकार की होती है तो आइये जानते हैं मुद्रा और उनके प्रकार - Currency and Their Type 

Currency and their type

मुद्रा और उनके प्रकार - Currency and their type



  • वास्‍वतिक मुद्रा - ऐसी मुद्रा जिसका प्रयोग दैनिक जीवन में हो रहा हो उसे वास्‍ततिक मुद्रा कहते हैैं किसी देश में प्रचलित सिक्के तथा नोट वास्तविक मुद्रा होते हैं
  • नजदीकी मुद्रा - नजदीकी मुद्रा ऐसी संपति को कहा जाता है जिसे जरूरत पडने पर असनी से मुद्रा में परिवर्तित किय जा सके
  • धातु मुद्रा - जब मुद्रा किसी धातु से बनी होती है तो ऐसी मुद्रा को धातु मुद्रा कहते हैं सभी सिक्‍के धातु मुद्रा के ही उदाहरण हैं वर्तमान में एक निश्चित आकार-प्रकार एवं तौल वाली मुद्रा जिस पर राज्य का वैधानिक चिन्ह अंकित होता है, धातु-मुद्रा कहलाती है
  • सांकेतिक मुद्रा - ऐसी मुद्रा जो मुद्रा जिस धातु से बनी हो उसका मूल्‍य मुद्रा के मूल्‍य से कम हो सांकेतिक मुद्रा कहलाती है
  • कागजी मुद्रा - ऐसी मुद्रा नोटों के रूप में निगर्मित की जाती है कागजी मुद्रा पर किसी सरकारी अधिकारी अथवा केन्द्रीय बकैं के गवर्नर के हस्ताक्षर होते है भारत में कागजी मुद्रा का निर्गमन रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा किया जाता है
  • दुलर्भ मुद्रा - ऐसी मुद्रा जिसकी अन्‍तराष्‍ट्रीय बाजार में मांग अधिक हो और उसकी पूर्ति न हो पा रही हो ऐसी मुद्रा को दुलर्भ मुद्रा कहते हैं
  • सुलभ मुद्रा - ऐसी मुद्रा जिसकी अन्‍तराष्‍ट्रीय बाजार में पूर्ति अधिक हो और जिसकी मांग कम हो ऐसी मुद्रा को सुलभ मुद्रा कहते हैं
  • प्‍लास्‍टिक मुद्रा - प्लास्टिक मुद्रा विभिन्‍न बैंकों द्वारा जारी सभी प्रकार के क्रेडिट कार्ड और डेविट कार्ड को कहत हैंं
  • प्रतिनिधी मुद्रा - ऐसी मुद्रा जो वास्‍‍तविक मुद्रा ना होकर भी वास्‍‍तविक मुद्रा के रूप में कार्य करे ऐसी मुद्रा को वास्‍तविक मुद्रा कहते हैं
Tag - Currency, Types of Money,list of currencies,  what is currency, 




Post a Comment

1. बैंक मंञ को आपके लिये बनाया गया है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत जानकारी और लेखों के बारे में आपके बहुमूल्‍य विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी टिप्‍पणी बैंक मंञ को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।