Ads (728x90)



आपने पेटीएम, एयरटेल और वोडाफोन पेमेंट बैंक (Payment Bank) के बारे में जरूर सुना होगा, परीक्षा के परिप्रेक्ष्य के अनुसार भुगतान बैंक (Payment Bank) के विषय में ज्ञान रखना बेहद महत्वपूर्ण है तो आईये जानते हैं क्‍या होता है भुगतान बैंक या पेमेंट बैंक - Know About Payments Bank in Hindi

Post Payments Bank, Airtel Payments, What is Payments Banks, Paytm Payments Bank,  Airtel Bank account, payment banks in hindi, paytm payment bank, airtel payment bank, fino payment bank, पेमेंट बैंक इन हिंदी, paytm payment bank career, india post payment bank, airtel payment banks

क्‍या होता है भुगतान बैंक या पेमेंट बैंक - Know About Payments Bank in Hindi


भारतीय रिजर्व बैंक ने 19 अगस्त 2015 को अपने एक आदेश के द्वारा 11 पेमेंट बैंक या भुगतान बैंक की स्वीकृत प्रदान कर दी। असल में भुगतान बैंक या पेमेंट बैंक कुछ विशेष प्रकार के बैंक होते हैं जिन्‍हें वास्‍तविक बैंक के मुकाबले कुछ सीमित बैंकिंग क्रियाकलाप की अनुमति होती है जैसे ये बैंक ग्राहकों से जमा ले सकते हैं किंतु लोन नहीं दे सकते या‍नि पेमेंट बैंक संपूर्ण बैंक तो नहीं होंगे लेकिन आम जनता व गरीब जनता से जुड़ी लगभग तमाम वित्तीय सेवाएं दे सकेंगे। कर्ज देने को छोड़ कर, मोटे तौर पर ये पेमेंट बैंक छोटे बचत खाता खोल सकेंगे। प्रवासी मजदूरों के लिए पैसा भेजने या स्वीकार करने का काम कर सकेंगे और कम आय वर्ग वाले समूहों और असंगठित क्षेत्र के कामगारों को वित्तीय सेवा पहुंचाने का काम प्रमुख तौर पर करेंगे। इनके जरिये शुरुआत में एक ग्राहक से अधिकतम एक लाख रुपये का लेनदेन ही किया जा सकेगा। एटीएम व डेबिट कार्ड तो ये जारी करेंगे लेकिन क्रेडिट कार्ड जारी करने की इन्हें अनुमति नहीं मिलेगी।

भुगतान बैंक या पेमेंट बैंक की सूची व नाम

रिजर्व बैंक ने 11 संस्थानों को पेमेंट बैंक शुरू करने के लिए सैद्धांतिक तौर पर मंजूरी दे दी है। जिसमें डाक विभाग भी शामिल है  - 
  1. आदित्य बिड़ला नूवो लिमिटेड
  2. एयरटेल एम कॉमर्स लिमिटेड
  3. चोलामंडलम डिस्ट्रीब्यूशन
  4. डाक विभाग
  5. फिनो पेटेक लिमिटेड
  6. नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लि.
  7. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड
  8. दिलीप शांतिलाल सांघवी
  9. विजय शंकर शर्मा
  10. टेक महिंद्रा लिमिटेड
  11. वोडाफोन एम पैसा

भुगतान बैंक या पेमेंट बैंकों का उद्देश्य

वित्‍तीय समावेशन को बढ़ावा देने हेतु (i) लघु बचत खाते उपलब्‍ध कराना और (ii) प्रवासी श्रमिक वर्ग, निम्‍न आय अर्जित करने वाले परिवारों, लघु कारोबारों, असंगठित क्षेत्र की अन्‍य संस्‍थाओं और अन्‍य उपयोगकर्ताओं को भुगतान/भुगतान/विप्रेषण सेवाएं प्रदान करना भुगतान बैंकों की स्‍थापना के उद्देश्‍य होंगे।

गतिविधियों का दायरा

  • मांग जमा की स्वीकृति. भुगतान बैंक शुरू में प्रति व्यक्ति ग्राहक 100,000 रूपये अधिकतम शेष राशि धारण करने के लिए प्रतिबंधित है. 
  • ATM / डेबिट कार्ड जारी करना भुगतान बैंक, हालांकि यह , क्रेडिट कार्ड जारी नहीं कर सकते.
  • विभिन्न चैनलों के माध्यम से भुगतान और प्रेषण सेवाएं
  • BC की रिज़र्व बैंक के दिशानिर्देशों के अधीन, दूसरे बैंक की BC
  • गैर-जोखिम वाले साझा वित्तीय उत्पादों जैसे म्यूचुअल फंड यूनिट्स और बीमा उत्पादों आदि का वितरण.

पात्र प्रवर्तक

मौजूदा गैर-बैंक पूर्वदत्‍त भुगतान लिखत (पीपीआई) जारीकर्ता; और अन्‍य संस्‍थाएं जैसे व्‍यक्ति/पेशेवर; गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनडीएफसी), कॉरपोरेट व्‍यवसाय प्रतिनिधि (बीईसी), मोबाइल टेलिफोन कंपनियां, सूपरमार्केट श्रृंखलाएं, कंपनियां रियल इस्‍टेट सहकारिताएं; जो निवासी भारतीयों के स्‍वामित्‍व व नियंत्रणाधीन हैं; तथा सार्वजनिक क्षेत्र की संस्‍थाएं भुगतान बैंकों की स्‍थापना के लिए आवेदन कर सकती हैं।

कोई प्रवर्तक/प्रवर्तक समूह भुगतान बैंक की स्‍थापना के लिए किसी विद्यमान अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक के साथ संयुक्‍त उद्यम की व्‍यवस्‍था कर सकता है। तथापि, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक भुगतान बैंक में अपना इक्विटी हिस्‍सा बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 19(2) के अंतर्गत अनुमेय स्‍तर तक रख सकता है।

भुगतान बैंकों का प्रवर्तन करने के लिए पात्र प्रवर्तक/प्रवर्तक समूह ‘योग्‍य और समुचित’ ऐसे हों जोकि पेशेवर अनुभव का सुदृढ़ रिकार्ड रखते हों या जिन्‍होंने कम-से-कम पांच वर्ष की अवधि के लिए कारोबार चलाया हो।

निधियों का अभिनियोजन

  • भुगतान बैंक ऋण देने का कार्य नहीं कर सकता।
  • मांग और मीयादी देयताओं में से रिज़र्व बैंक के पास रखे जाने वाले आरक्षित नकदी निधि अनुपात (सीआरआर) की राशि के अतिरिक्‍त अपने ‘’मांग जमाराशि के शेष’’ का कम-से-कम 75 प्रतिशत का हिस्‍सा सांविधिक चलनिधि अनुपात (एसएलआर) के लिए पात्र एक वर्ष तक की परिपक्‍वता अवधि वाली सरकारी प्रतिभूतियों/खजाना बिलों में निवेश करने की अपेक्षा होगी तथा वह अपने परिचलनात्‍मक प्रयोजनों और चलनिधि प्रबंधन हेतु अन्‍य अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों में चालू और मीयादी/सावधिक जमाराशियों में 25 प्रतिशत तक का हिस्‍सा रख सकता है।

पूंजी अपेक्षा 

  • भुगतान बैंकों के लिए न्‍यूनतम 100 करोड़ की चुकता इक्विटी पूंजी रखनी होगी।
  • भुगतान बैंक का लीवरेज अनुपात 3 प्रतिशत से कम न हो अर्थात उसकी बाहरी देयताएं उसकी अपनी निवल मालियत (चुकता पूंजी और आरक्षित निधियां) के 33.33 गुणा से अधिक न हो।

प्रवर्तक का अंशदान 

ऐसे भुगतान बैंक की चुकता इक्विटी पूंजी में प्रवर्तक का न्‍यूनतम प्रारंभिक अंशदान बैंक के अपने कारोबार की शुरुआत से पहले पांच वर्ष की अवधि के लिए कम-से-कम 40 प्रतिशत होगा।

विदेशी शेयरधारिता

भुगतान बैंक में विदेशी शेयरधारिता निजी क्षेत्र से संबंधित समय-समय पर यथासंशोधित प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति के अनुरूप होगी।

अन्‍य शर्तें :

  • इस बैंक का परिचालन शुरुआत से ही पूर्णत: नेटवर्क व प्रौद्योगिकी साधित हो और सामान्‍यत: स्‍वीकृत मानकों व मानदंडों के अनुरूप हो।
  • ग्राहकों की शिकायतों का निपटान करने हेतु इस बैंक में एक उच्‍च अधिकार-प्राप्‍त ग्राहक शिकायत निवारण कक्ष हो।
Tag - Post Payments Bank, Airtel Payments, What is Payments Banks, Paytm Payments Bank,  Airtel Bank account, payment banks in hindi, paytm payment bank, airtel payment bank, fino payment bank, पेमेंट बैंक इन हिंदी, paytm payment bank career, india post payment bank, airtel payment banks




Post a Comment

1. बैंक मंञ को आपके लिये बनाया गया है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत जानकारी और लेखों के बारे में आपके बहुमूल्‍य विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी टिप्‍पणी बैंक मंञ को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।