Ads (728x90)



मुद्रा की पूर्ति (Supply of Money ) से आशय किसी नियम विशेषकर के देशों में प्रचलित वैधानिक मु्द्रा की कुल मात्रा से है। वैधानिक मुद्रा के अन्‍तर्गत देश में चलन में आने वाले नोट एवं सिक्‍कों को शामिल किया जाता है जो कि विनियम के माध्‍यम के रूप में काम में व्‍यय किये जाते हैं। वर्तमान समय में साख मुद्रा या बैंक मुद्रा को भी विनियम के माध्‍यम के रूप में प्रयोग किया जाता है साख मुद्रा को भी मुद्रा की पूर्ति में शामिल किया जाता है। आईये जानते हैं मुद्रा की पूर्ति क्‍या है  -  What is Supply of Money 

मुद्रा की पूर्ति क्‍या है  -  What is Supply of Money

मुद्रा की पूर्ति क्‍या है  -  What is Supply of Money 

साधारणों अर्थों में मुद्रा की पूर्ति से आशय मुद्रा के उस आकार से है जिसमें यह केवल देश के लोगों के पास होता है, इसमें उस मुद्रा को शामिल नहीं किया जाता जोकि बैंकों और सरकार के पास जमा होता है।

मुद्रा की पूर्ति में प्रमुख रूप से तीन तत्‍व शामिल हैं - 
  1. केंद्रीय बैंक द्वारा जारी विभिन्‍न मूल्‍य के नोटों की कुल मात्रा
  2. सरकार द्वारा जारी कुल मुद्रा
  3. बैंकों में माँग जमा की कुल मात्रा
मुद्रा की वास्‍तविक पूर्ति को ज्ञात करने के लिए वर्ष 1961 में आरबीआई द्वारा मुद्रा पूर्ति पर प्रथम कार्यकारी दल का गठन किया गया, जिसके द्वारा मौद्रिक समूहों से संबंधिंत अवधारणा को प्रस्‍तूत किया गया। इसी प्रकार दूसरे कार्यकारी दल का गठन वर्ष 1977 में हुआ, जिसने सम्‍पूर्ण मौद्रिक स्‍टॉक की तरलता के अंश के आधार पर चार माप प्रस्‍तुत किए।
  • M1=जनता के पास मुद्रा (करेंसी नोट व सिक्‍के) + बैंकों की मांग जमा + रिजर्व बैंक के पास अन्‍य जमाएं
  • M2 = M1 + डाकघरों के पास बचत बैंक जमाएं
  • M3 = M1 + बैंकों की सावधि जमाएं
  • M4 = M3 + डाकघरों की समग्र जमाएं
इस प्रकार M1 की मात्रा जनता को उपलब्ध मुद्रा की मात्रा को व्‍यक्‍त करती है। व्‍यापक मुद्रा जिसे सुलभ मुद्रा भी कहा जाता है की माप M3 के द्वारा होती है। 

उदारीकरण के पश्‍चात वित्‍तीय क्षेत्र में परिवर्तनों का दौर प्रारम्‍भ हुआ, इन परिवर्तनों के मौद्रिक समुच्‍चय पर पड़ने वाले प्रभाव के अध्‍ययन हेतु वाई वी रेड्डी की अध्‍यक्षता में समिति (1997) का गठन किया गया। इस समिति ने मुद्रा के तीन नए नकदों समुच्‍चयों L1, L2, L3 की चर्चा की 

Tag - money supply m1, money supply definition economics, money supply in india, components of money supply, what is money supply in economics, measures of money supply, determinants of money supply, money supply m1 m2 m3,What is the meaning of supply of money in Hindi 




Post a Comment

1. बैंक मंञ को आपके लिये बनाया गया है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत जानकारी और लेखों के बारे में आपके बहुमूल्‍य विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी टिप्‍पणी बैंक मंञ को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।